Home » एचडीबी ने ट्रक ड्राईवरों के लिए फिज़ियोथेरेपी शिविर लगाए
Business Featured

एचडीबी ने ट्रक ड्राईवरों के लिए फिज़ियोथेरेपी शिविर लगाए

विश्व फिज़ियोथेरेपी दिवस के अवसर पर भारत के अग्रणी एनबीएफसी, एचडीबी फाईनेंशल सर्विसेज़ (एचडीबीएफएस) ने ट्रक ड्राईवरों के लिए फिज़ियोथेरेपी शिविर लगाकर उनकी कड़ी मेहनत और कर्तव्यनिष्ठा को सम्मानित किया है। ये शिविर एचडीबी के फ्लैगशिप सीएसआर प्रोग्राम – ट्रांसपोर्ट आरोग्यम केंद्र (टीएके) के अंतर्गत आयोजित किए जा रहे हैं।

इस पहल के बारे में अजय ठाकुर, हेड एस्सेट फाईनेंस, एचडीबी फाईनेंशल सर्विसेज़ ने कहा, ‘‘वर्ल्ड फिज़ियोथेरेपी दिवस लोगों की सेहत बनाए रखने में फिज़ियोथेरेपी के महत्व के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। यह ट्रक ड्राईविंग जैसे अत्यधिक शारीरिक दबाव वाले व्यवसायों के लिए और भी ज्यादा महत्वपूर्ण है। ट्रांसपोर्ट आरोग्यम केंद्र एक अद्वितीय सीएसआर प्रोग्राम है, जो हमारे हाईवे हीरोज़ के स्वास्थ्य व सेहत में सहयोग करने के लिए डिज़ाईन किए गए हैं। ट्रकिंग समुदाय से मिली बेहतरीन प्रतिक्रिया के साथ एचडीबी आने वाले समय में अपने ये प्रयास जारी रखेगा तथा सड़क पर ट्रक ड्राईवर्स का सफर आरामदायक बनाने के लिए और ज्यादा ट्रक ड्राईवर्स तक पहुँचकर उनका स्वास्थ्य सुनिश्चित करेगा।’’

ट्रक ड्राईवर्स की शारीरिक सेहत और शरीर में लचीलापन बनाए रखने, उनकी माँसपेशियों को मजबूत करने, और लंबे समय तक बैठे रहने के कारण होने वाले नुकसान से बचाने के लिए एचडीबीएफएस 14 राज्यों के 35 प्रमुख ट्रांसपोर्ट नगरों में केवल ट्रक ड्राईवर्स के लिए निशुल्क फिज़ियोथेरेपी सत्रों का आयोजन कर रहा है।

ट्रक ड्राईवर्स की सेहत में सुधार लाने के लिए ये शिविर ट्रांसपोर्टर्स, औद्योगिक संगठनों, और एनजीओ के सहयोग से लगाए जा रहे हैं। इन शिविरों में थेरेपिस्ट उन्हें सही मुद्रा में बैठने, स्ट्रेच करने, और व्यायाम करने के तरीके बताते हैं, ताकि उनके बीच स्वास्थ्य को लेकर जागरुकता बढ़े। थेरेपिस्ट उन्हें बीच-बीच में आराम करने के लिए ब्रेक लेने के लिए भी प्रेरित करते हैं। यहाँ पर विशेषज्ञ उपकरणों की मदद से ट्रकर्स का इलाज किया जाता है, और उन्हें फौलो-अप विज़िट्स करते रहने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। 

ट्रांसपोर्ट आरोग्यम केंद्र (टीएके सेंटर्स) अपनी तरह का खास स्टेटिक क्लिनिक है, जो भारत में ट्रकिंग समुदाय को पूर्ण कालिक विशेषज्ञ फिज़ियोथेरेपी काउंसलिंग और इलाज प्रदान करता है। एचडीबी ने यह कार्यक्रम 2020 में शुरू किया था, जिसके बाद भारत में दिल्ली, राँची, कलमबोली, नमक्कल, और लुधियाना में मुख्य ट्रांसपोर्ट केंद्रों में पूर्ण सुविधायुक्त ट्रांसपोर्ट आरोग्यम केंद्र स्थापित किए जा चुके हैं, और कई डायग्नोस्टिक फिज़ियोशिविर लगाए जा चुके हैं।

एचडीबीएफएस आज तक टीएके सेंटर्स द्वारा 70,000 ट्रक ड्राईवर्स तक पहुँचकर उनके जीवन में सुधार ला चुका है।