Home » राज्य की 787 महिलाओं को ‘एयू उद्योगिनी’ ने बनाया उद्यमी
Business Featured

राज्य की 787 महिलाओं को ‘एयू उद्योगिनी’ ने बनाया उद्यमी

भारत के सबसे बड़े स्मॉल फाइनेंस बैंक (एसएफबी), एयू एसएफबी  ने राजस्थान के जयपुर,  करौली और बारां जिलों में अपने ‘एयू उद्योगिनी’ कार्यक्रम के माध्यम से 787 महिलाओं को सशक्त कर आत्मनिर्भर उद्यमी बनाया है। इस उपलब्धि का जश्न आज शाहपुरा के मनोहरपुर गांव में मनाया गया,  जहां मुख्य अतिथि शाहपुरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री मनीष यादव के द्वारा 48 ऐसे व्यवसायों का उद्घाटन किया गया। मौजूदा महीने में अब तक जयपुर, करौली और बारां जिलों में महिला उद्यमियों के स्वामित्व वाले 133 व्यवसायों का उद्घाटन किया गया।

एयू उद्योगिनी कार्यक्रम अक्टूबर 2022 में एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के कॉरपोरेट  सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) विंग द्वारा एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लॉन्च किया गया था, जिससे 25 व्यक्तिगत ग्रामीण महिलाओं को लाभ हुआ। शुरू में, इसका प्राथमिक फोकस उन दैनिक वेतन भोगी परिवारों की महिलाओं के लिए उद्यमिता के अवसर पैदा करने पर था, जिनकी आय पर कोविड-19 महामारी के दौरान प्रतिकूल प्रभाव पड़ा था। जल्द ही इस कार्यक्रम का विस्तार नीति आयोग की महत्वाकांक्षी योजना के साथ जोड़ दिया गया जिसके अंतर्गत पहचाने गए जिलों में जीवन स्तर को बढ़ाकर और सबके लिए एक समान विकास सुनिश्चित करके मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) में भारत की रैंकिंग में सुधारने के प्रयास किए जा रहे हैं।

अब, एयू उद्योगिनी ग्रामीण राजस्थान में आर्थिक रूप से पिछड़ी महिलाओं को सशक्त बनाती है और साथ ही उन्हें अपनी पारिवारिक आय में सुधार करने में भी सक्षम बनाती है। एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक उन्हें मसाला व्यवसाय, शिल्प (क्राफ्ट), ब्यूटी पार्लर सहित 24 तरह के व्यवसाय स्थापित करने के लिए प्रशिक्षित करता है। बैंक उन्हें अपने व्यक्तिगत व्यवसाय (पर्सनल बिजनेस) शुरू करने के लिए बाजार से जुड़ने में भी मदद करता है।

इस पहल के पीछे की प्रेरणा के बारे में जानकारी देते हुए, एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के फाउंडरमैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ संजय अग्रवाल ने कहा कि “एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक को अपने ‘एयू उद्योगिनी’ कार्यक्रम के जरिए राजस्थान में आत्मनिर्भर उद्यमियों के रूप में 787 महिलाओं के सफल सशक्तिकरण की घोषणा करते हुए गर्व हो रहा है। यह ‘माइल स्टोन’ न केवल महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है, बल्कि नीति आयोग के साथ सबके लिए विकास के एक समान अवसर पैदा करने के हमारे व्यापक मिशन के साथ भी मेल खाता है। हमारी सामाजिक जिम्मेदारी के तहत यह पहल, महिलाओं को सशक्त बनाने के एक ईमानदार प्रयास का प्रमाण है, जिसके तहत हम उन्हें उनके सपनों को पाने मेन मदद कर रहे हैं।”

एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के इन प्रयासों की सराहना करते हुए, मुख्य अतिथि शाहपुरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री मनीष यादव ने कहा, “एयू उद्योगिनी कार्यक्रम न केवल महिलाओं को आत्मनिर्भर और सक्षम बना रहा है बल्कि उनके अंदर नेतृत्व की क्षमता भी विकसित कर रहा है| मैं एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के द्वारा क्षेत्र में किये जा रहे सामाजिक कार्यों की प्रशंसा करता हूँ और साथ साथ उनके द्वारा कोविड-19 महामारी के दौरान किये कार्यों के लिए भी उनका धन्यवाद देता हूँ|”

व्यक्तिगत महिला उद्यमियों को सहयोग देने के अलावा  एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक ने ‘मां अन्नपूर्णा’ मसाले और तेल कंपनी और महिला कारीगरों की ‘निर्झरी’ कंपनी नामक दो महिला नेतृत्व वाले सामुदायिक उद्यमों की स्थापना की है। इसके साथ ही महिलाओं के बीच सेविंग्स कल्चर को बढ़ावा देने के लिए बैंक ने स्वयं सहायता समूहों (सेल्फ हेल्प ग्रुप्स) का भी गठन किया है। कुल मिलाकर, इन पहलों ने राजस्थान की 2,300 महिलाओं के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाये हैं।