Home » समीरा एग्रो एंड इंफ्रा लिमिटेड का आईपीओ 21 दिसंबर को खुलेगा
Business Featured

समीरा एग्रो एंड इंफ्रा लिमिटेड का आईपीओ 21 दिसंबर को खुलेगा

समीरा एग्रो एंड इंफ्रा लिमिटेड, जो इनोवेशन और ग्रोथ का पर्याय है, इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) के माध्यम से अपनी ऐतिहासिक यात्रा में एक नया अध्याय शुरू करने के लिए तैयार है। पब्लिक मार्केट में कंपनी का आना न केवल एक फाइनेंशियल माइलस्टोन है, बल्कि इसके लचीलेपन, डाइवर्सफाइड बिज़नेस एप्रोच और उत्कृष्टता के प्रति अटूट प्रतिबद्धता का उदाहरण है। 

21 दिसंबर से 27 दिसंबर, 2023 तक शेड्यूल, समीरा एग्रो का आईपीओ 180 रुपये प्रति शेयर का एक फिक्स्ड प्राइस इश्यू है, जिसका अंकित मूल्य 10 रुपये प्रति शेयर है। विभिन्न स्तरों के इन्वेस्टर्स के लिए लॉट का आकार 800 शेयर्स पर तय किया गया है। कुल इश्यू का आकार 3,480,000 शेयर है, जो कुल मिलाकर 62.64 करोड़ रुपये है। आईपीओ एनएसई एसएमई पर सूचीबद्ध होगा, जो कंपनी के विकास पथ में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित होगा।

समीरा एग्रो एंड इंफ्रा लिमिटेड रियल एस्टेट डेवलपमेंट और एग्रीकल्चर के इंटरसेक्शन पर काम करती है, जो अपने इनवेस्टर्स को एक यूनिक  वैल्यू प्रस्ताव पेश करती है। इन दो अलग लेकिन सिनर्जिस्टिक (सहक्रियात्मक) बिज़नेस डोमेन में कंपनी का स्ट्रेटिजिक  डाइवर्सफकैशन इसे बाजार में खास  अवस्था में रखता है। 

समीरा एग्रो ने रेजिडेंशियल,कमर्शियल और मिक्स्ड-यूज प्रोजेक्ट्स तक फैले एक मज़बूत पोर्टफोलियो के साथ रियल एस्टेट क्षेत्र में अपने लिए एक जगह बनाई है। कंपनी की यात्रा छोटे और मध्यम आय समूहों की जरूरतों को पूरा करने के लिए रेजिडेंशियल लेआउट्स और प्लॉट्स के विकास के साथ शुरू हुई। इन वर्षों में, इसने श्री कोमारवेली मल्लन्ना सागर जलाशय और हैदराबाद और तेलंगाना में विभिन्न मॉडल मार्केट्स जैसे  प्रोजेक्ट्स को सफलतापूर्वक पूरा  किया है। कंपनी का दायरा इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट तक फैला हुआ है, जिसमें जलाशयों के लिए मिट्टी की खुदाई, सड़क निर्माण और नहर लाइनिंग सहित चैलेंजिंग प्रोजेक्ट्स पर ध्यान केंद्रित किया गया है। नाओलिन इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड और एरो कंस्ट्रक्शन लिमिटेड जैसे ग्राहकों के लिए उल्लेखनीय परियोजनाएं पूरी हुईं, जो समीरा एग्रो की तकनीकी कौशल और गुणवत्ता के प्रति प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हैं। 

2021 में एक स्ट्रेटिजिक मूव के तहत, समीरा एग्रो ने कृषि वस्तुओं की प्रोसेसिंग, ड्रॉइंग (सुखाने), बिक्री, खरीद, मार्केटिंग और डिस्ट्रिब्यूशन को शामिल करने के लिए अपने ऑपरेशन्स को एक्सपेंड किया।

कंपनी दालों, धान्य और अनाजों का कारोबार करती है और माल के भंडारण के लिए ग्राहकों, आपूर्तिकर्ताओं और गोदामों का एक मज़बूत नेटवर्क स्थापित करती है। लीज़ पर एक मैन्युफैक्चरिंग और प्रोसेसिंग यूनिट और प्रोसेसिंग मिलों का अधिग्रहण करने की योजना के साथ, समीरा एग्रो- इंडस्ट्री में महत्वपूर्ण वृद्धि के लिए तैयार है। 31 मार्च, 2023 को समाप्त वित्तीय वर्ष में, कंपनी ने रेवेन्यू में पर्याप्त वृद्धि दर्ज की, जो पिछले वर्ष की तुलना में 31.79% बढ़ गई। प्रॉफिट आफ्टर (पीएटी) में 266.1% की उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई, जो कंपनी के एफिशिएंट फाइनेंशियल मैनेजमेंट और ऑपरेशनल एक्सीलेंस को रेखांकित करता है। 

 आईपीओ (IPO) की आय स्ट्रेटिजिक उद्देश्यों के लिए निर्धारित की गई है, जिसमें ऑनगोइंग और  अपकमिंग प्रोजेक्ट्स की फंडिंग, मौजूदा उधार को कम करना और वर्किंग कैपिटल रिक्वायरमेंट को सपोर्ट करना शामिल है। फंड का यह विवेकपूर्ण आवंटन शेयरहोल्डर वैल्यू  को बढ़ाने और निरंतर विकास सुनिश्चित करने की समीरा एग्रो की प्रतिबद्धता के अनुरूप है। समीरा एग्रो के ऑनगोइंग और कम्प्लीट प्रोजेक्ट्स रियल एस्टेट और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट में इसकी प्रगति के प्रमाण के रूप में खड़ी हैं। धगरमाराम विलेज अपार्टमेंट जैसे  रेजिडेंशियल प्रोजेक्ट्स से लेकर कमर्शियल वेंचर्सऔर प्रस्तावित मल्टीप्लेक्स प्रोजेक्ट्स तक, कंपनी का डाइवर्सफाइड पोर्टफोलियो इसे इंडस्ट्री में एक फॉर्मिडबल (दुर्जेय) खिलाड़ी के रूप में स्थापित करता है।

कंपनी ने कई स्टेट गवर्नमेंट के  प्रोजेक्ट्स के साथ-साथ नेशनल प्रोजेक्ट्स के लिए भी काम किया है, उनमें से एक भारतीय गैस प्राधिकरण (गेल) भी है, जहां कंपनी ने गैस पाइपलाइन और डिस्ट्रिब्यूशन चैनल बिछाए थे। समीरा एग्रो एंड इंफ्रा लिमिटेड के पास 100 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया ऑर्डरबुक है, जिसे चालू वित्तीय वर्ष में पूरा किया जाएगा, इस ऑर्डर बुक में बड़े पैमाने पर प्राइवेट और गवर्नमेंट इंफ्रा प्रोजेक्ट शामिल हैं।